उत्तराखंड में स्कूलों के खुलने तक लागू रहेगा 12 मई वाला आदेश : भाजपा नेता कुंवर जपेंद्र

आपको बता दे कि
लॉकडाउन में स्कूल बंद होने के बाद भी कही निज़ी स्कूल अभिभावकों पर लगातार फीस देने के लिए दबाव बना रहे थे,

जो भाजपा नेता कुँवर जपेंदर से देखा नही जा रहा था
उनके पास कही अभिभावक भी आये थे और कोरोना काल मे अपने दर्द को बयां कर रहे थें
तब उन्होंने इस जनहित के मुद्दे पर शिक्षा के व्यापरियों से जंग लड़ने का एलान कर दिया था
जी भाजपा नेता कुंवर जपेंद्र सिंह ने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से मुलाकात कर उनसे भी निवेदन किया था


ओर जन दबाव ,ओर जनहित के इस मुद्दे को लेकर वे
हाईकोर्ट में याचिका दायर कर चुके थे ।
जिस पर 12 मई को कोर्ट ने सुनवाई करते हुए किसी भी तरह ऑनलाइन या फिर मैसेज के जरिए फीस मांगने पर पूरी तरह से रोक लगा दी थी।

वही आज बोलता उत्तराखंड को
कुंवर जपेंद्र ने बतया कि आज नैनीताल कोर्ट ने मई वाले आदेशों को ही लागू करके रखा हुआ है, और उत्तराखंड शिक्षा सचिव को भी निर्देश दें दिया है कि आप एक हफ्तें के अंदर प्रारूप बना कर राज्य सरकार को दें, और राज्य सरकार इस पर नीति बनाए। उन्होंने कहा की और जो भी काम आगे होना हैं वो शिक्षा नीति के ऊपर अभिभावकों और छात्रों की सहमती को ध्यान में रखते हुए हो
ओर जब तक ये सारी बात होती है तब तक 12 मई वाला ही आदेश लागू रहेगा।

उन्होंने आगे कहा कि जैसे कि अभी लॉकडाउन खुलना शुरू हो गया है तो अब राज्य सरकार को ये फैसला करना होगा की स्कूल कब खुलेंगे और कैसे खुलेंगे। और जबसे स्कूल खुलेंगे तब से ही इनकी फीस बनेगी और पिछला आदेश वैसे ही रहेगा। और ऑनलाइन फीस वाले मामले पर तो हाईकोर्ट ने 12 मई को ही आदेश दे दिया था।

कुँवर जपिंद्र ने बताया कि जो हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ निजी स्कूलों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी जिसमें 11 जून को तरीख लगी हुई थी उसे भी सुप्रीम कोर्ट ने बढ़ाकर अब 7 जुलाई पर पहुंचा दी
उन्होंने कहा कि ये इसलिए भी हो रहा है क्योकि सुप्रीम कोर्ट की संज्ञान में है कि 12 मई को हाईकोर्ट में जो हमारा आदेश पास हुआ था उसपर केरल ने, कर्नाटक ने और मिजोरम ने भी इसी को आधार बना कर आदेश दिए और पंजाब हाईकोर्ट में स्कूलों के खिलाफ अभी याचिका लगी हुई है।

 


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here