मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने
लॉकडाउन के कारण तमाम तरह की बंदिशें झेल रहे लोगों को बड़ी राहत देने का ऐलान किया
आपको बता दे कि
4 मई से ग्रीन जोन वाले जिले को रियायत देते हुए पूरी तरह खोलने का फैसला किया है। साथ ही अब तीर्थयात्री भी तीर्थस्थल के दर्शन कर सकेंगे l ये सुविधा फिलहाल उत्तराखंड के ग्रीन जोन में निवास करने वाले लोगों को मिलेगी!
केंद्र सरकार की सूची के मुताबिक, उत्तराखंड के कुल 13 जिलों में 10 जिले ग्रीन जोन में हैं। दो जिले ऑरेंज जोन में हैं और सिर्फ एक ही जिला रेड जोन में है। इसी को ध्यान में रखते हुए सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा है कि 4 मई से लॉकडाउन का तीसरा चरण जब शुरू होगा तो 10 जिलों को पूरी तरह से खोल दिया जाएगा।

‘हम 2013 की तबाही से उबरे, कोरोना से भी उबरेंगे

वही चार धाम यात्रा के बारे में सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा, ‘हम चाहते हैं कि लोग इन धार्मिक स्थलों की यात्रा करें। हम यह देखकर फैसले लेंगे कि चीजें किस तरह से बेहतर हो रही हैं। हम यही कामना करेंगे कि धार्मिक स्थल सुरक्षित रहें और लोगों के मन में कोई डर ना हो। राज्य ने 2013 में तबाही देखी है और उससे उबर चुका है। हम कोरोना की महामारी से भी उबरेंगे।’
इससे पहले 29 अप्रैल को केदारनाथ धाम के कपाट विधि विधान से पूजा-अर्चना करने के बाद खोल दिए गए। बदरीनाथ धाम के कपाट 15 मई को खुलने के साथ ही चारों धामों के कपाट खुल जाएंगे। 10 जिलों को खोले जाने के बाद ना सिर्फ श्रद्धालुओं को आसानी होगी बल्कि लॉकडाउन के कारण घर बैठे कामगार भी रोजगार पर वापस लौट सकेंगे।
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र चाहते हैं कि लोग दर्शन करें. देश के हालात ठीक हों,
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र बाबा केदार से प्रार्थना करते हैं
सूत्र कहते है कि
4 मई से प्रदेश के सभी ग्रीन जोन को पूरी तरह से खोल दिया जाएगा.
जो भक्त यात्रा पर जाना चाहें, वे 4 मई से जा पाएंगे.
पर ये सभी प्रदेश के ही होंगे
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र बोले कि इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग और नियमों का पालन करना होगा. मुख्यमंत्री ने कहा कि वह समय आएगा, जब हम भयमुक्त होकर बाबा केदारनाथ के दर्शन कर सकें.
साल 2013 की आपदा को याद करते हुए उन्होंने कहा कि रौनक फिर लौटेगी.

मुख्यमंत्री रावत ने साथ ही यह भी कहा कि विग्रह स्थल का ऑनलाइन दर्शन कराने के लिए पुजारी समाज से बात कर विचार किया जा सकता है. उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने सख्ती और सतर्कता के साथ कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ी. जहां जरूरी हुआ, वहां सख्ती बरती और सतर्कता भी।

मुख्य सचिव ने प्रेस वार्ता में महत्वपूर्ण बाते कहीं

लॉक डाउन 4 मई से 2 सप्ताह के लिए बढ़ाया गया है

राज्य में कोरोना से बचाव के लिए कई अहम कदम उठाए गए है

राज्य में ज़िलों को तीन ज़ोन में बंटा गया है

हरिद्वार रेड ज़ोन, देहरादून और नैनीताल ऑरेंज बाक़ी 10 ज़िले ग्रीन ज़ोन- मुख्य सचिव

रेड ज़ोन के शहरी इलाक़ों में यथावत रहेगी स्थिति- मुख्य सचिव

हॉट स्पॉट इलाक़ों में पाबंदियां यथावत रहेंगी- मुख्य सचिव

ग्रीन ज़ोन में सभी सरकारी कार्यालय खुलेंगे

शैक्षणिक संस्थानो में बहुत आवश्यक कार्य के लिए स्टाफ को बुलाया जा सकता है

राज्य में मनरेगा के कार्य शुरू कर दिए गए हैं- मुख्य सचिव

उत्तराखंड के अन्य राज्यों में फंसे लोगों को लाने की तैयारी

आने से पहले और आने के बाद सभी लोगों का हेल्थ चेकअप होगा

अभी तक 1 लाख 25 हज़ार लोगों ने उत्तराखंड आने के लिए आवेदन किया है

अधिकतर दिल्ली, मुम्बई, महाराष्ट्र, पंजाब चंडीगढ़ से वापस आने के लिए हुए हैं रजिस्ट्रेशन

रेल से आने वाले लोगों के लिए व्यवस्था की जा रही है

निजी वाहनों के लिए भी व्यवस्था की जा रही है

आवाजाही के दौरान कोरोना नियमो का पालन करना होगा

होम क्वारन्टीन के नियमों का पालन करना होगा

संबंधित जिलाधिकारी को दी गई है क्वारन्टीन कि ज़िम्मेदारी

जो भी लोग आएंगे उनको होम क्वारन्टीन किया जाएगा

आवश्यक होने पर संस्थागत क्वारन्टीन किया जाएगा

उत्तराखंड में 4 मई से दुकाने सुबह 7 से 4 बजे तक खुलेंगी

सचिवालय सुबह 9.30 से शाम 4 बजे तक खुलेगा

3 हज़ार से अधिक उद्योगों को खोलने की दी गई अनुमति-मुख्य सचिव

95 विकास खंडों में मनरेगा के कार्य शुरू किए गए-मुख्य सचिव

6441 कार्य शुरु जिसमे क़रीब 73 हज़ार श्रमिक कार्य कर रहे हैं

55 साल से अधिक उम्र और गंभीर बीमारी से ग्रसित कार्मिक को ड्यूटी पर नही बुलाया जाएगा

राज्य मे गेंहू खरीद का कार्य जारी है-मुख्य सचिव

किसानों के भुगतान में नहीं की जा रही है कोई भी देरी।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here