वही आज दिल्ली दंगे में उत्तराखंड के पौड़ी जिले के थाना क्षेत्र पैठाणी के युवक की मौत से क्षेत्र में शोक की लहर रही


आज चौकीसैंण और पैठाणी बाजार बंद रहा तो
स्थानीय व्यापारियों ने दो मिनट का मौन रखकर मृतक की आत्मा की शांति की प्रार्थना की ओर उन्होंने मौन जुलूस निकालकर अपना दुख व्यक्त किया।
बता दे कि शुक्रवार को पैठाणी व चाकीसैंण के व्यापारियों ने शोक जताते हुए आज बाजार बंद रखने का निर्णय लिया था उधर,      दिल्ली में उसका शव मिल गया है और उन्होंने वहीं उसका अंतिम संस्कार कर लिया है


आपको बता दे कि थाना क्षेत्र पैठाणी के ढाईज्यूली पट्टी स्थित रोखड़ा गांव निवासी दिलबर सिंह की दिल्ली दंगे में मौत हो गई थी। घटना की सूचना पड़ोसी गांव के रहने वाले दिलबर के दोस्त श्याम सिंह ने 26 फरवरी को फोन पर ग्रामीणों व उसके परिजनों को दी। दंगे में श्याम सिंह भी घायल हुआ है, जो अभी दिल्ली सफदरजंग अस्पताल में भर्ती है। हालांकि श्याम सिंह की स्थिति पर स्थिर बताई जा रही है।


बता दे कि दिलबर सिंह पिछले डेढ़ वर्ष से शहादरा दिल्ली में एक बेकरी में काम करता था। बताया गया कि दंगाइयों ने दिलबर जिस गोदाम में सो रहा था, उस पर आग लगा दी थी। घटना की सूचना पर दिलबर के जीजा व चाचा दिल्ली बृहस्पतिवार को ही रवाना हो गए थे।
वही एसआई लोहित कुल ने बताया कि दिलबर के जीजा व चाचा को दिल्ली में उसका शव मिल गया है। उन्होंने दिल्ली व आसपास रहने वाले रिश्तेदारों को बुलाकर उसकी वहीं अंतिम संस्कार कर दिया है।


वही दिल्ली दंगे में दिवगत हुए पौड़ी निवासी श्री दलबीर सिंह के परिजनों को मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने 5 लाख रूपये की आर्थिक सहायता स्वीकृत की है।
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने दिल्ली के दंगो में हुई दलबीर सिंह की आकस्मिक मृत्यु पर गहरा दुःख व्यक्त किया है। उन्होंने मृत आत्मा की शान्ति तथा उनके शोक संतप्त परिजनों को इस दुःख को सहन करने की शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से कामना की है।
मुख्यमंत्री ने दलबीर सिंह के परिजनों की कमजोर आर्थिक स्थिति के दृष्टिगत रूपये 5 लाख की आर्थिक सहायता स्वीकृत की है।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here