मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने रविवार को पतंजलि योगपीठ हरिद्वार में आयोजित कार्यक्रम के दौरान किसानों की सुविधा एवं कृषि के विकास संबंधी पुस्तिकाओं का विमोचन किया। पतंजलि योगपीठ हरिद्वार में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने कहा कि पतंजलि योगपीठ द्वारा “ग्रीन रिवॉल्यूशन 2022 एंड एग्री विजन” के तहत जैविक उत्पादों को बढ़ावा देने, उन्नत बीजों के उत्पादन, तकनीक आधारित खेती को बढ़ावा देने एवं फसलों के लिए उन्नत भूमि की जांच में किसानों को मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि कृषि के विकास के लिए विज्ञानियों एवं कृषकों को अपना योगदान देना होगा। किसानों के हित में बेहतर तकनीकी के विकास से मदद मिलेगी। उन्होंने किसानों को निशुल्क सॉफ्टवेयर उपलब्ध कराने के लिए पतंजलि की सराहना भी की।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने कहा कि सरकार किसानों की आर्थिक स्थिति को मजबूत तथा खेती को बढ़ावा देने के लिए लगातार प्रयास कर रही है। स्वयं सहायता समूहों को 5 लाख तक का ऋण बिना ब्याज के उपलब्ध कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सहकारिता, बागवानी एवं कृषि क्षेत्रों को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार द्वारा 3340 करोड रुपए की धनराशि प्रदान की गई है, इससे कृषि क्षेत्र के विकास हेतु प्रयोग किया जाएगा।

इस अवसर पर केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर, कैबिनेट मंत्री अरविन्द पांडेय, मदन कौशिक, राज्य मंत्री धन सिंह रावत, मंत्री सुबोध उनियाल, विधायक आदेश चौहान, प्रदीप बत्रा, संजय गुप्ता एवं देशराज कर्णवाल भी उपस्थित थे।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here