आपको बता दे कि मौसम विभाग के निदेशक बिक्रम सिंह के अनुसार आज कहीं-कहीं आंशिक रूप से बादल छाये रहेगे तो मैदानी क्षेत्रों में कोहरे की संभावना है।
तो वही आज फरवरी उत्तराखंड के उत्तरकाशी, चमोली, रुद्रप्रयाग, बागेश्वर, पिथौरागढ़ जिलों के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में कहीं-कहीं हल्की बारिश या बर्फबारी हो सकती है। जबकि अन्य जगह मौसम शुष्क रहने का अनुमान है।
वही पांच फरवरी से आसमान साफ  रहने के साथ ही मौसम शुष्क रहने की संभावना है।

दुःखद ख़बर ये है कि उत्तरकाशी के मोरी प्रखंड के सुदूरवर्ती  फिताड़ी क्षेत्र में एक गर्भवती महिला की मौत हो गई। बताया जा रहा है कि शनिवार रात को प्रसव पीड़ा होने पर इस हिमाच्छादित क्षेत्र से महिला को अस्पताल पहुंचाने की स्थिति न बन पाने के कारण उसकी मौत हुई है दुःखद।
ये पूरा मामला रविवार देर रात को सामने आया था
फिर इस मामले को गंभीरता से लेते हुए डीएम डॉ. आशीष चौहान ने एसडीएम पुरोला को इस मामले की जांच के निर्देश दिए हैं।
वही क्षेत्र के ग्रामीणों ने बताया कि फिताड़ी गांव निवासी रणदेव की पत्नी को शनिवार रात प्रसव पीड़ा हुई। गांव की सड़क खस्ताहाल होने एवं संचार का कोई और साधन नहीं होने के कारण महिला को अस्पताल नहीं ले जाया सका। जिससे उसकी प्रसव के दौरान ही मौत हो गई।
वही धूप खिलने के बाद भी कर्णप्रयाग सहित पूरे क्षेत्र में कड़ाके की ठंड पड़ रही है।
देवाल के वांण, लोहाजंग, घेस, हिमनी आदि गांवों में अभी तक बर्फ नहीं पिघलने से लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।
तो कर्णप्रयाग क्षेत्र के नौटी, नंदासैंण, चौंरासैंण, छांतेश्वर, आदिबदरी के प्यूंरा, पज्याणा, खेती, मालसी, नारायणबगड़ के छेकुड़ा, मनोड़ा गांवों में शीतलहर चल रही है। सुरेश महिपाल, विनय, रमेश, जयबीर आदि ने कहा कि जंगलों में बर्फ जमने के कारण लोग पशुओं के लिए चारा तक नहीं ला पा रहे हैं। ग्वालदम में लोग ठंड से बेहाल हैं। वेदनी व आली बुग्यालों में भी बर्फ जमी है।
वही दिसंबर से लगातार हो रही भारी बर्फबारी से चमोली जिले के लभगग 42 गांव अभी भी प्रभावित हैं। अत्यधिक ऊंचाई वाले गांवों में बर्फ अधिक होने से लोगों को जरूरी सामान जुटाने में भी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। इन गांवों में चारापत्ती का भी संकट बना हुआ है।
तो जोशीमठ ब्लॉक के 23 गांव, दशोली ब्लॉक के चार, थराली के 11 और घाट के चार गांव अभी बर्फबारी से प्रभावित हैं। वहीं जोशीमठ ब्लॉक के बैनाकुली और हनुमानचट्टी में बिजली आपूर्ति बाधित है। इसके अलावा गोपेश्वर-चोपता मार्ग अत्यधिक बर्फबारी के चलते बंद पड़ा है।
वही मुनस्यारी के साथ ही जिले के तमाम हिस्सों में बर्फबारी से जिला मुख्यालय की ऊंची चोटियों में भी बर्फ गिरी। थल-मुनस्यारी सड़क पर बर्फ पटी है। यह सड़क पिछले छह दिनों से बंद है। रविवार को मुनस्यारी का न्यूनतम तापमान माइनस तीन डिग्री और पिथौरागढ़ का न्यूनतम तापमान माइनस 1.4 डिग्री था।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here