सोमबार को नई दिल्ली स्थित प्रवासी भारतीय केंद्र में कौशल विकास मंत्रालय द्वारा आयोजित राज्यों के मंत्रियों का सम्मेलन एवं अप्रेंटिसशिप पखवाड़ा 2019 का शुभांरभ कार्यक्रम में डबल इंजन के कौशल विकास मंत्री डा हरक सिंह रावत द्वारा प्रतिभाग किया गया नव भारत के निर्माण में माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ‘‘कौशल भारत कुशल भारत‘‘ की विकास की इस सोच को आगे बढाते हुए उत्तराखण्ड अपनी महत्वपूर्ण भूमिका को निभा रहा है। मंत्री हरक सिंह रावत ने कहा कि केन्द्रीय सरकार की भांति उत्तराखण्ड सरकार द्वारा कौशल विकास विभाग को श्रम विभाग से पृथक करते हुए एक नये कौशल विकास एवं सेवायोजन विभाग का सृजित किया गया। इसका सबसे बडा फायदा यह रहा कि जो अधिकारी एवं कर्मचारी सेवायोजन विभाग का दायित्व देख रहे थे अब वह सेवसायोजन के साथ-साथ कौशल विकास विभाग के सम्नवयक अधिकारी के रूप में भी देखगें।


कौशल विकास विभाग को विस्तृत रूप देने के उद्देश्य से पर्यटन, फिल्म इंडस्ट्री तथा एडवेंचर के क्षेत्र में कौशल विकास के माध्यम से इनसे जुडे नये व्यवसाय चलाये जा रहें। राज्य के संसाधनों को ही कौशल विकास के रूप में प्रयोग किया जा रहा है, जिससे रोजगार के साथ पलायन को भी कम किये जाने पर प्रदेश सराकर विशेष जोर दे रही है। युवाओं को पर्यटन, एडवेंचर तथा फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े प्रशिक्षण प्रदान कर उन्हें प्रदेश की आर्थिकी के साथ साथ उनके स्वयंरोजगार को भी बढावा दिया जा रहा है। पैराग्लाइडिंग, रिवर राफ्टिंग तथा अन्य एडवेंचर कार्यक्रम को कौशल विकास के माध्यम से विकसित किये जाने पर उत्तराखण्ड सरकार कार्य रही है। हमारे राष्ट्रीय पार्क, फूलों की घाटी तथा अन्य वन्य जीव अभ्यारणों को पर्यटन के क्षेत्र में बढावा दिये जाने हेतु उत्तराखण्ड सरकार युद्व स्तर पर प्रयास कर रही है।
फिल्म इंड्रस्ट्री से जुडे व्यवसायों को उत्तराखण्ड सरकार उत्तरोत्तर गति से आगे बढाने का कार्य कर रही है, जिससे फिल्म उद्योग को उत्तराखंड में बढ़ावा मिल सके। साथ ही होटल इंडस्ट्री को बढावा दिये जाने हेतु सिंगल विडों सिस्टम को लागू किया गया है।
उत्तराखण्ड का योगदान सदैव देश के लिए अभूतपूर्व रहा है और रहेगा।
तो दूसरी तरफ उत्तराखण्ड मैं हरीश रावत स्टिंग प्रकरण पर सोमबार को सुनवाई हुई और अब अगली तारीख 1 नवम्बर सुनवाई की रखी गई है इस बीच कुछ देर पहले हरीश रावत के फेसबुक पेज पर लिखा गया है कि मतलब हरीश रावत लिखते है

आज हाईकोर्ट में चले तर्क-वितर्क के बीच मुझे कवि गोपालदास नीरज की, मेरे बहुत प्रिय कवि हैं, एक युगान्ताकारी कविता की दो लाईनें बरबस याद आ रही हैं,
“सौ-सौ बार चिताओं ने, मरघट में मेरी सेच बिछाई,
सौ-सौ बार धूल ने, मेरी चलने की गति चुराई”।
मगर अनन्तोगतवा मेरे ईष्ट देव ने मुझे सहारा दिया और आज भी वही मुझे सहारा देने के लिये खड़े हैं।
बहराल पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत की इन लाइनो मैं बहुत कुछ रहस्य है जो उनसे बात कर ही मालूम चलेगा।
क्या हरक बनाम हरीश रावत राजनीतिक जंग आगे भी जारी रहेगी ?


18 मार्च 2016 से आज के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के लिए कही गई उस दौरान की सभी बातें ,आरोप, आज के डबल इंजन की सरकार के मंत्री हरक सिंह रावत की एक एक बात सच थी ??
क्या पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत द्वारा आज भी मंत्री हरक सिंह रावत पर लगाये जा रहे जमीन खीरद से लेकर तमाम आरोप सही है ??
अब इन सब बातों पर एक बार फिर मुद्दे गर्म होने वाले है
क्योकि …….    उत्तराखंड

 

की सियासत  मैं अभी  रावतों की  भूमिका ख़ास है।

 



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here