उत्तराखंड मैं डेंगू को लेकर अब हर कोई त्रिवेंद्र सरकार को घेरने मैं लगा हुवा कारण साफ है विपक्ष मैं बैठी कांग्रेस को स्वास्थ्य महकमे के द्वारा दिये जा रहे डेंगू के आंकड़े गलत नज़र आ रहे है जिस पर अब उपवास से लेकर धरने तक भी कांग्रेस करती नज़र आ रही हैं
तो वही मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने आज देहरादून मैं विपक्ष को घेरते हुए कहा कि मच्छर सरकार के घर में तो पैदा नहीं होते भाई
ओर मै भी कह सकता हूँ कि विपक्ष का षड्यंत्र है ये की वो डेंगू का मच्छर लाकर यहा छोड़ रहै है लेकिन इस तरह के आरोपो मै मुझे लगता है कि भीं कोई समझदार व्यक्ति को इस प्रकार की बाते नही करनी चाइए।
वही उन्होंने कहा कि
कि सबसे बड़ा डेंगू तो प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह के साथ घूम रहा है। 2 साल से वो अपनी पार्टी का गठन नही कर पा रहे है अब भी बोल रहे है इस महीने कर देंगे तो प्रीतम सिंह जी हमारे बहुत भले इंसान है उन्हें कोई समझा आता है वैसे ही बोल देते है ।

तो उधर काँग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना ने आज डीजी हेल्थ के ऑफिस पर डेंगू की बढ़ती समस्या को लेकर धरना प्रदर्शन ओर उपवास रखा
साथ ही कहा कि यदि मंगलवार तक डेंगू से हालत ना सुधरे तो वे मुख्यमंत्री के आवास के बाहर उपवास पर बैठेंगे।
इस पहले कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने डेंगू के मुद्दे पर सीएम को घेरते हुए कहा था कि राज्य के मुखिया और स्वास्थ्य मंत्री होने के नाते उनकी जिम्मेदारी सबसे बड़ी है, मगर इसका निर्वहन नहीं किया जा रहा है। सरकार के पास डेंगू प्रभावितों के असल आंकडे़ तक उपलब्ध नहीं है।
अब सवाल ये है की क्या डेंगू पर सियासत हावी नही हो गई है।
बात सच है कि उत्तराखंड मैं डेंगू से 1400 जे अधिक लोग पीड़ित है सरकारी आकड़ो के लिहाज से
ओर अभी तक उनके अनुसार 8 लोगो की मौत हो गई है।


पर जब कांग्रेस के एक नेता सूर्यकांत धस्माना बोले कि 10 हज़ार से अधिक लोगो डेंगू से पीड़ित है और 50 से अधिक की मौत हो गई है
ओर उनका इस पर उपवास भी रहा डीजी हेल्थ के कार्यलय पर।

एक्शन मैं है गुस्से मैं है ये कांग्रेस के युवा नेता
तो दूसरी तरफ ही युवा कांग्रेस नेता जो वकील भी है वे कहते है कि 2000हज़ार लोग डेंगू की वजह से मौत के मुहाने पर है और 5 लाख जे अधिक लोग डेंगू से राज्य में पीडित है तो भला फिर आप क्या कहेंगे।ओर क्या बोलेंगे आप खुद ही समझदार है।


की सच कितना होगा और झूठ कितना बात फिर किसी के भी आंकड़े की क्यो ना हो।
खैर राजनीति मैं ये सब चलता रहता है और इस वजह से उत्तराखंड की छवि जरूर खराब होती है
यात्रा सीजन जारी है
पर्यटक उत्तराखंड आ रहा है जब वो ये बयान सुनेगा तो जो उत्तराखंड आ रहा होगा वो इस तरफ रुख ही नही करेगा साहब ।
ओर उनकी वजह से ही चलता है 25 से 30 लाख लोगों का रोजगार।
जो सच है वो सामने आए माना कोंन करता है ।पर इतना कहा हो गया कि राज्य के अंदर 5 लाख लोग डेंगू से पीड़ित है ? 2000 हज़ार लोग मोत के मुहाने पर है।
सोचिए आप हम भी करते है इसकी पड़ताल।

 

ठीक से देख लेना ख़बर पढ़ने वाले सभी सर जी मेडम जी फेसबुक मैं डाली गई पोस्ट को ओर फिर सोचना की क्या हकीकत मैं ये हाल है आपके उत्तराखंड के ??

 



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here