10 किलोमीटर सड़क के लिए 17 साल से इंतज़ार ना जाने कब मिलेगी इनको सड़क!

:बोलता है उत्तराखण्ड़ हमारे राजनेता है महान काम कभी नही करते पूरा ओर उनका भाषण पूरा विकास से भरा रहता मज़ेदार आज आपको हम बात दे कि
जोशीमठ तपोवन-भविष्यबदरी मोटर मार्ग के लिए साल 2001 में स्वीकृत हुई 10 किमी सड़क का निर्माण कार्य आज तक पूरा नही हो पाया।   ये सच्चाई है जनाब कोई मज़ाक नही इसका खुलासा तब हुवा जब सुभांई और रिंगी व्यापार संघ के लोगों ने सरकार के खिलाफ सड़क पर उतरकर अपना धरना प्रदर्शन तीसरे दिन भी जारी रखा। वहां के लोगो का कहना है कि प्रशासन ने पिछले 17 सालों से सिर्फ 3 किमी की सड़क ही बन पाई । ओर यही कारण है कि यहा के के लोगो को बहुत परेशानी का सामना आये दिन करना पड़ता है पर कोई सुनने को तैयार नही।                  

ओर अब तो प्रदर्शनकारी पिछले तीन दिन से क्षेत्रीय विधायक और प्रशासन के खिलाफ जमकर मोर्चा खोलते हुये नारेबाजी कर रहे हैं।
व्यापार संघ के अध्यक्ष लक्ष्मण नेगी ने कहते है कि सरकार से हमने ये माग भी की थी की इस योजना को प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना में शामिल कर दिया जाए लेकिन सरकार की ओर से इस पर कोई रुख नहीं अपनाया गया। अब दुःखद ओर कष्टकारी टि है ही पूरी बात की 2001 से मंजूर हुई सड़क 2018 तक भी ना बन पाई तो ये गाँव वाले अब सड़को पर नही उतरेगे तो क्या करेगे
आपको बता दे कि साल 2001 में तपोवन से भविष्य-बदरी मोटर मार्ग का निर्माण के लिए सरकार की ओर से स्वीकृति मिल गई थी। इस सड़क निर्माण से रिंगी और सुभांई ग्राम सभाएं एक साथ जुड़ती। साथ ही पंच बदरी में शामिल भविष्य बदरी के मंदिर तक पर्यटकों को आने जाने के लिए पहाड़ी पंगडंडी और चढ़ाई नापने से भी छुटकारा मिल जाता। अगर ये सड़क बनकर तैयार हो जाती
दुःख इस बात का है इस राज्य की जनता ने राज्य गठन से लेकर अब तक राज्य के अंदर मुख्यमंत्री को लगातार बदलते देखा पर पहाड़ की किस्मत को हम बदलते ना देख पाए अगर ऐसा होता तो हम ये ना कहते कि आज भी महज साल 2001 से 10 किलोमीटर सड़क के लिए तड़प रही है जनता।   ।

Leave a Reply